राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद्

(भारत सरकार का एक सांविधिक निकाय)

राष्ट्रीय परामर्शदाता मिशन (एनएमएम)

मार्गदर्शन और सहायता चाहने वालों को परामर्श प्रदान करने के इच्छुक उत्कृष्ट वरिष्ठ/सेवानिवृत व्यावसायिकों के एक बड़े पूल के सृजन के माध्यम से राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद् द्वारा राष्ट्रीय परामर्श मिशन का संचालन किया जाएगा। ये सक्षम परामर्शदाता, चाहे वह किसी भी आयु या पद से सम्बन्धित हों, इसकी परवाह किए बिना, वह हमारे देश के 21वीं सदी के विकास लक्ष्यों को साकार करने में अपना योगदान देगें। एनएमएम अध्यापकों और अध्यापक प्रशिक्षकों को अल्प और दीर्घकालिक सलाह/व्यावसायिक सहायता के महत्व को रेखांकित करता है। इससे विभिन्न व्यक्तियों के बीच पारस्परिक सहयोग से शिक्षण का लाभ उठाने का अवसर मिलता है जिससे उनका निरंतर व्यावसायिक विकास होता है। परामर्श ज्ञान के अनौपचारिक/औपचारिक प्रसारण और संग्राहक द्वारा कार्य, कैरियर या व्यावसायिक विकास के लिए प्रासंगिक मनोसामाजिक सहयोग के लिए एक प्रक्रिया है। रा.प.मि.(एनएमएम) को लागू करने के लिए एक कार्यान्वयन योजना विकसित करने के लिए एक समिति का गठन किया गया था। प्रारंभिक बैठकों और चर्चाओं के माध्यम से, परामर्श पर ब्लूबुक का एक मसौदा तैयार किया गया है। ब्लूबुक का यह मसौदा राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद् की वेबसाइट और माईगवर्नमेंट पोर्टल पर 3 नवंबर 2021 को विभिन्न हितधारकों से सुझाव/प्रतिक्रिया आमंत्रित करने के लिए रखा गया है। कृपया ब्लूबुक खोजने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और अपने सुझाव/प्रतिक्रिया हमें abhimanyu.ncte@gov.in पर 15 जनवरी 2022 तक भेजने का कष्ट करें।

संपर्क: मेंटरिंग ब्लूबुक पर सुझाव/प्रतिक्रिया आमंत्रण हेतु सार्वजनिक सूचना